गोंडवाना रिपब्लिक के स्वप्नद्रष्टा हीरा सिंह मरकाम नहीं रहे, पढ़ें एक पुरानी बातचीत

हमारे समाज की पांच मुख्य समस्याएँ हैं। 1. भय 2. भूख 3. भ्रष्टाचार 4. भगवान व भाग्य और 5. भटकाव। ग्रंथ और गुरु के अभाव में सारा गोंडवाना भटक गया है। वैसे ग्रंथ तो कंगाली जी ने बहुत सारा लिख कर दे दिया। हमें लिंगो गुरु को स्थापित करके उनके कोया पुनेम दर्शन का प्रसार-प्रचार करना होगा।

Read More

मौजूद नीतियों के चलते आदिवासियों की सभ्यता-संस्कृति का विलोपन एक अनिवार्य परिणति है!

अप्रैल से लेकर जून तक का समय माइनर फारेस्ट प्रोड्यूस (लघु वन उत्पाद) को एकत्रित करने का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। वर्ष भर एकत्रित होने वाले कुल एमएफपी का लगभग 60 प्रतिशत इसी अवधि में इकट्ठा किया जाता है किंतु दुर्भाग्य से कोविड-19 की रोकथाम के लिए लॉकडाउन भी इसी अवधि में लगाया गया।

Read More

सोनभद्र: हत्‍याकांड की पहली बरसी पर उम्‍भा के लोग गांव में ही नज़रबंद, ज़मीन के बदले मिला धोखा

सोनभद्र के उम्‍भा गांव में आदिवासियों के हत्‍याकांड का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर आज पूरे गांव को ही नजरबंद कर दिया गया है. लोगों को काम पर …

Read More

सोनभद्र: आदिवासी हत्याकांड की पहली बरसी पर शहीदों के परिवार और कांग्रेसी नेता गिरफ्तार

मिर्जापुर टोल प्लाजा पर कांग्रेस नेता राजेश मिश्रा, अजय राय, प्रदेश महासचिव विश्वविजय सिंह, प्रदेश सचिव सरिता पटेल समेत सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता गिरफ्तार किये गये हैं। ये सभी नेता उम्भा में शहीद हुए आदिवासियों को पुष्पांजलि अर्पित करने जा रहे थे।

Read More

कोरोना की आपदा के बीच कोल ब्लॉक की नीलामी किसको आत्मनिर्भर बनाने के लिए है?

कोरोना की आपदा को क्या खनन कंपनियों के लिये अवसर में बदलने की तैयारी चल रही है? कोल ब्लॉक को लेकर केंद्र सरकार जो कुछ करने जा रही है, उससे …

Read More

गुजरात: लॉकडाउन में आदिवासियों की ज़मीन लेने पहुंचा प्रशासन, अदालत ने खारिज की थी PIL

छोटूभाई वसावा ने अपने फेसबुक पर ज़मीन अधिग्रहण के लिए आयी पुलिस और आदिवासियों द्वारा किये गये उसके विरोध की वीडियो और तस्वीरें साझा की हैं

Read More