जिसकी दुकान पर पुलिसवाले पांच साल से चाय-पकौड़ी खा रहे थे, उसी को ईनामी नक्सली कह कर उठा लिया!

गिरिडीह एसपी और राजकुमार किस्कू के परिजनों के पास मौजूद सभी साक्ष्यों को देखने से तो यही लगता है कि पुलिस की कहानी में काफी झोल है और पुलिस की कहानी पर सवाल ही सवाल है।

Read More

झारखंड: PESA कानून के तहत स्वशासन की आदिवासी परंपरा को पुनर्जीवित करने का मौका

प्रवासी मजदूरों के लिए जो कोई और सरकार न कर पाई वह मौजूदा झारखंड सरकार ने किया है वीर भारत तलवार (प्रभात खबर, 10-जून-2020) यह एक प्रतिष्ठित विचारक द्वारा झारखंड …

Read More

घर लौटने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए लैंड बैंक और भूमि का डिजिटलीकरण दो बाधाएं हैं

हमारे प्रवासी कामगारों को जीवनयापन करने के लिए अधिक से अधिक भूमि की आवश्यकता है, लेकिन यहां तो मौजूदा भूमि को भी भयावह तरीके से लूटा जा रहा है। ऐसे में प्रवासियों को उनका हक कैसे मिले?

Read More

झारखंडः प्रशासन की मंजूरी से राहत कार्य में लगे पंजीकृत मजदूर यूनियन को पुलिस की धमकी, CM से की शिकायत

मैकलुस्कीगंज थाना के अधिकारियों द्वारा दी गयी धमकी की जानकारी ईमेल के जरिये झारखंड के मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, डीजीपी, रांची डीआइजी, रांची एसएसपी और रांची डीसी को दी गयी है।

Read More

भागलपुर के कोरोना मरीज़ को गोड्डा का बताने वाले दैनिक जागरण पर मुकदमा करेगी झारखंड पुलिस?

दैनिक जागरण के गोड्डा (झारखंड) संस्करण के मुख्यपृष्ठ पर 23 अप्रैल को छपी खबर ‘गोड्डा में मिला कोरोना का पहला मरीज’ अंततः फेक निकला। गोड्डा जिला जनसंपर्क कार्यालय द्वारा प्रेस विज्ञप्ति जारी कर व गोड्डा उपायुक्त (डीसी) द्वारा ट्वीट कर दैनिक जागरण में छपी खबर को निराधार व भ्रामक बताया गया।

Read More

झारखण्ड में एक लाश को दो गज़ ज़मीन चाहिए!

घटना दिखाती है कि जिंदा ही नहीं बल्कि मरे हुए इंसान को भी समाज से अलग-थलग करने की पूरी तैयारी की जा चुकी है। शोषण व लूट पर टिकी इस व्यवस्था  के पोषणकर्ता यह कभी भी नहीं चाहेंगे कि लोग सामूहिकता में किसी भी विषम परिस्थितियों  से टक्कर ले।

Read More