बिखर गया संतोषी का परिवार, पांच साल पीछे चली गई लीलावती! लॉकडाउन की बरसी पर…

यह ऐसा समय था कि गांव के लोग किसी की भी मदद नहीं करते थे जबकि करोना से पहले गाँव में ऐसा नहीं होता था। लोग एक दूसरे की मदद बडे़ ही सरलता से करते थे, लेकिन यह करोना तो हम मजदूरों की स्थिति को एक दम से झकझोर दिया। हम गरीब मजदूर इस करोना की मार खाकर कम से कम पाँच साल पीछे हो गये।

Read More

सोनभद्र के आदिवासी नरसंहार तक जाती हैं बनारस के मुसहरों के अंकरी कांड की जड़ें

बनारस के कोइरीपुर में मुसहर समुदाय की भूख के सवाल पर सरकार की खूब छीछालेदर हुई। लॉकडाउन के दौरान अंकरी प्रकरण को लेकर जिस वक्त विपक्ष, सत्तारूढ़ दल को घेरने …

Read More

काशी की इस सामुदायिक रसोई में पक रहा है सामाजिक और जातिगत सौहार्द का पकवान

आज रोज़ दो टाइम तीन तीन सौ खाने के पैकेट तैयार किए जा रहे हैं और गरीब, दलित, पिछड़ों के घर घर भेजे जा रहे हैं। आगे की योजना और दिलचस्प है। न्यास अब लॉकडाउन से पड़ने वाले मनोवैज्ञानिक प्रभाव पर काउंसलिंग का काम शुरू करने वाला है।

Read More