कांग्रेस ने पहली बार मनाया संविधान चर्चा दिवस, UP के सभी जिलों में आयोजन

अल्पसंख्यक कांग्रेस ने आज उत्तर प्रदेश के सभी ज़िलों में संविधान चर्चा दिवस मनाया। अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने जारी बयान में कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा …

Read More

3 जनवरी, 1976: ‘सोशलिस्ट’ और ‘सेकुलर’ संविधान के 45 साल

भारत जैसे बहुधार्मिक/बहुजातीय लोकतंत्र में इन शब्दों विशेषकर पंथनिरपेक्ष का महत्त्व बहुत अधिक है, किंतु आज इसी पर सबसे अधिक खतरा है. देश की केन्द्रीय सत्ता में मौजूद भारतीय जनता पार्टी के नेता और समर्थक समय-समय पर सेकुलर शब्द पर हमला करते रहते हैं.

Read More

स्मृतिशेष: समाजवाद के खांटी पहरुए रामअवधेश सिंह का जाना

बिहार के भोजपुर जिले के एक पिछड़े हुए गांव में 18 जून 1937 को जन्मे रामअवधेश सिंह ने राजनीति में अपने बूते जगह बनाई थी. वह 1969 में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में आरा विधानसभा क्षेत्र से चुन कर बिहार विधानसभा आये. 1977 में बिक्रमगंज लोकसभा क्षेत्र से संसद के लिए चुने गए.

Read More

सीताराम सिंह: समाजवाद का एक आफ़ताब

सीताराम सिंह जी आज हमारे बीच होते तो हम उनकी 101वीं सालगिरह मना रहे होते। वे सौ की उम्र पूरी करने से पहले 2018 में हमारे बीच से चले गए

Read More

अलबर्ट आइंस्टीन हम सब के क्यों हैं?

हिंदी में अलबर्ट आइंस्टीन और उनके काम पर लिखी गयी दुर्लभ पुस्तकों में एक, जो इसी साल छपकर आयी है, उसका नाम हैः “सबके आइंस्टीन”।

Read More