अदब के आसमां में चमक के पलट गया एक और चाँद, नहीं रहे शम्‍सुर्रहमान फ़ारूक़ी

समकालीन पीढ़ी उन्‍हें उनके 2006 में आए उपन्‍यास ‘कई चांद थे सरे आसमां’ से बेहतर जानती थी। आज से कोई पंद्रह साल पहले उन्‍होंने दास्‍तानगोई को भारतीय सांस्‍कृतिक परिदृश्‍य में दोबारा जिंदा करने का काम किया था।

Read More

श्रद्धांजलि: यह वह नंबर नहीं है जिस पर तुम सुनाते थे अपनी तकलीफ़…

हिन्दी के मानिंद कवि और वरिष्ठ संपादक मंगलेश डबराल का आज शाम दिल्ली के एम्स में निधन हो गया। वे 72 वर्ष के थे और कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। जनपथ उन्हें अपनी श्रद्धांजलि देते हुए उन्हीं की लिखी एक कविता को पुनः प्रकाशित कर रहा है।

Read More

कोरोना के बाद क्या ‘विश्वग्राम’ की परिकल्पना यथावत बनी रहेगी? ललित सुरजन का अनुत्तरित सवाल

उनका आखिरी संपादकीय 9 अप्रैल, 2020 को कोरोना पर आया था। इस संपादकीय में उन्‍होंने कोरोना के बाद बनने वाली दुनिया को लेकर कुछ गंभीर सवाल उठाये थे। ये सवाल अब भी अनुत्‍तरित हैं। जनपथ अपने समय के इस महान संपादक प्रकाशक को श्रद्धांजलि देते हुए उनके सम्‍मान में उनका 9 अप्रैल को छपा संपादकीय पुनर्प्रकाशित कर रहा है।

Read More

छान घोंट के: स्‍वामी अग्निवेश को काशी से आखिरी सलाम

2014 में जब कैलाश सत्यार्थी को नोबेल शांति पुरस्कार मिला, तो स्वामी जी ने बिहार से मुझे फ़ोन कर के करीब दो घंटे लम्बी बात की। मैंने स्वामी जी से कहा कि “आप विस्तारवादी देशो के खिलाफ हैं, इसलिए आपको Right Livelihood award मिला जबकि कैलाश जी को नोबेल।”

Read More

धर्म, न्याय और बन्धुत्व की बात करने वाले एक वैदिक समाजवादी का जाना

धर्म के नाम पर सांप्रदायिकता और असहिष्णुता के खिलाफ लड़ाई में भी वे अग्रिम पंक्ति में डटे रहे. खासकर बहुसंख्यकवादी “हिंदुत्व” विचारधारा के खिलाफ उनका मानना था कि हिन्दुत्व की विचारधारा हिंदू धर्म का अपहरण करना चाहती है.

Read More

प्रणव मुखर्जी को याद करने के कुछ और भी कारण हैं!

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगी सभी गाड़ियां स्टार्ट कर दी गयी थीं, सब एलर्ट थे लेकिन जब धीरूभाई अंबानी राजीव गांधी के कमरे में दाखिल हुए तो बाहर निकलने में उन्हें 42 मिनट का वक्त लग गया। कहा जाता है कि यही वह मीटिंग थी जिसमें अंबानी ने राजीव गांधी को ‘सेट’ किया था, जिसकी व्यूह रचना प्रणव मुखर्जी ने की थी।

Read More

उत्तराखंड के आंदोलनकारी लेखक त्रेपन सिंह चौहान का निधन, उपपा ने दी श्रद्धांजलि

त्रेपन के निधन से हमने एक सच्चा, ईमानदार, संघर्षशील, जीवट साथी खो दिया है किन्तु उनकी जीवटता और साहित्य राज्य का मार्गदर्शन करते रहेंगे।

Read More

मशहूर शायर राहत इंदौरी के निधन पर MP प्रलेस और राष्ट्रीय सेक्युलर मंच का वक्‍तव्‍य

राष्ट्रीय सेक्युलर मंच के संयोजक श्री लज्जा शंकर हरदेनिया और मध्य प्रदेश प्रगतिशील लेखक संघ के महासचिव शैलेन्द्र शैली ने एक शोक प्रस्ताव में कहा कि राहत इंदौरी जी मानवीय मूल्यों, सामाजिक न्याय, विश्व शांति और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध शायर थे।

Read More

हिंदी पट्टी में वामपंथ की एक और पुरानी धार सूखी, बलिया में चितरंजन सिंह का निधन

बीते कुछ साल से वे जमशेदपुर में अपने भाई के यहाँ रह कर इलाज करवा रहे थे. हाल ही में उन्हें बलिया स्थित अपने गाँव लाया गया. उन्हें बनारस में भारती कराया गया था जहां डॉक्टरों ने बताया था कि उनके कुछ अंग काम करना बंद कर चुके हैं.

Read More