बनारस में शुरू हुई वरुणा नदी को बचाने की मुहिम: ‘गाँव के लोग’ की नदी यात्रा

अस्सी नदी का अस्तित्व शहर की गंदगी ने लील लिया लेकिन वरुणा की हालत उससे कम बदनसीबी से भरी नहीं थी। जहां से यात्रा को वापस मुड़कर फिर महजिदिया घाट आना था उस सुरवा घाट पर जहां कुछ महीने पहले नाव चला करती थी अब वहां शायद घुटने भर पानी भी नहीं रह गया था। बाँस का एक पुल बना दिया गया था और दूसरे किनारे पर घटवार झोपड़ी में बैठा किराया वसूल करता था।

Read More

अंबेडकर जयंती: मनरेगा मजदूरों ने संवैधानिक मूल्यों पर जागरूकता के लिए निकाली बनारस में रैली

रैली को संबोधित करते हुए मनरेगा मजदूर यूनियन की रेनू पटेल ने कहा कि संविधान पर जितना खतरा बढ़ेगा उतना ही बाबा साहब का मान बढ़ता जाएगा। उन्होंने कहा कि बाबा साहब की जयंती आज समाज के सभी वर्गों के लोग मना रहे हैं। हम लोग लोगों को लगातार संवैधानिक मूल्यों के प्रति जागरूक करने का काम कर रहे हैं जो कि आगे भी जारी रहेगा।

Read More

बनारस के मुसहर गांवों में चिंता का सबब बन रहा है कुपोषण का दोहरा बोझ

यदि कुपोषित बच्चों को उनके आरंभिक जीवन में अपर्याप्त पोषण प्राप्त होता है, तो ऐसे बच्चों को कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण एनसीडी का ज्‍यादा खतरा होता है बजाय उनके जो पर्याप्त पोषण प्राप्त करते हैं। अवरुद्ध बच्चे, बाद में जीवन में यदि सामान्य पौष्टिक भोजन के बजाय उच्च वसा, नमक और चीनी वाले अनियमित अल्ट्रा-प्रोसेस्ड भोजन और पेय का सेवन करते हैं, तो मोटापे के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं और बाद में उच्च रक्तचाप, मधुमेह और हृदय रोगों जैसे असंचारी कार्डियो-वैस्कुलर रोगों में एक या अन्य रूप का उन्‍हें सामना करना पड़ सकता है।

Read More

धार्मिक सत्ता स्थापित करने का प्रयास लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ: प्रो. राम पुनियानी

पूर्व की सरकारों के दौर में भी मीडिया की भूमिका पर सवाल उठते थे पर वह अपवादस्वरूप होते थे आज हालत इससे उलट है। मीडिया ने जनसरोकार से किनारा कर के सत्ता सरोकार से रिश्ता बना लिया है जिससे लोकतंत्र के चौथे खम्भे से आम जन का भरोसा उठता जा रहा है।

Read More

सामाजिक एकता का खात्मा डेमोक्रेसी को चैलेंज है: प्रोफेसर मलिक

प्रो. मलिक ने इस बात पर अफसोस जताया कि अपने शहर में नजीर अब बेगाने हो गये हैं। जिस बनारस की परम्पराओं को लेकर उन्होंने ढेर सारे शेर लिखे उस बनारस का उन्हें भूलना दुखद है।

Read More

‘संविधान की प्रस्तावना को आत्मसात कर उसे सुदूर ग्रामीण अंचलों तक पहुंचाना होगा’!

वरिष्ठ पत्रकार ए के लारी ने कहा कि सदियों से भारतीय समाज मेल-जोल से रहने का हामी रहा है। हमने पूरी दुनिया को सिखाया है कि विभिन्नता हमारी कमजोरी नहीं बल्कि ताकत है। आज दुनिया भर में पत्रकारिता के आयाम बदले हैं, हमारा मुल्क भी उससे प्रभावित हुआ है। बावजूद इसके यह सोच लेना कि सभी पत्रकार सरकार की सोच के साथ हैं ठीक नहीं है।

Read More

कोरोना की तबाही से जागा बनारस, स्वास्थ्य-शिक्षा और आजीविका के मुद्दे पर जन अधिकार यात्रा

इस यात्रा से पहले बनारस से पहली बार स्‍वास्‍थ्‍य का अधिकार बनाए जाने की मांग उठी थी और उसके समर्थन में एक हस्‍ताक्षर अभियान चलाया गया था।

Read More

बनारस: चैरिटी अभियान ‘ऑक्सीजन फॉर इंडिया’ ने सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों को बांटे कन्संट्रेटर

ऑक्‍सीजन का संकट आज भी सरकारी चिकित्‍सा केंद्रों में कम नहीं हुआ है, बरकरार है। इस संकट से स्‍वयंसेवी संस्‍थाएं जिस तरह निपट रही हैं, वह अपने आप में एक मिसाल है और ऑक्‍सीजन से हुई मौतों पर सरकारी जवाब की पोल खोलने वाला है।

Read More

हर्फ़-ओ-हिकायत: नया बनारस बन रहा है, काशी का दम उखड़ रहा है!

कोई कहता है कि बनारस विकास कर रहा है, तो मैं दावे से कहता हूं कि वह बनारस को नहीं जानता है। बनारस के ऐतिहासिक प्रतीकों को आज संरक्षण की जरूरत है, लेकिन धार्मिक नगरी का सर्टिफिकेट देकर इसके ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व को हमेशा कमतर किया जाता रहा है। बीते तीन-चार साल में बाकायदे इन प्रतीकों का विध्‍वंस हुआ है विकास के नाम पर।

Read More

बनारस: जान जोखिम में डाल के लोगों को बचाने वाले ग्रामीण चिकित्सकों और पत्रकारों का सम्मान

जब सरकारी अस्पतालों और बड़े अस्पतालों में बेड और आक्सीजन के लिए हाहाकार मचा हुआ था उस समय दूरदराज के गाँवों में चिकित्सकजन ने बड़े ही जिम्मेदारी से पीड़ित और संक्रमित लोगों को चिकित्सा सुलभ करायी। इन चिकित्सकों के पास प्रायः बड़ी डिग्री नहीं होती लेकिन इनका विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज करने का अनुभव कहीं बहुत ज्यादा है और यही कारण था कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान इन चिकित्सकों ने ग्रामीण क्षेत्र में हजारों लोगों की जान बचायी।

Read More