किसान आंदोलन की जीत अनेक जनांदोलनों को जीवित रखने की ऊर्जा दे गयी: IPTA

4 दिसम्बर की शाम सत्यजित रे और साहिर लुधियानवी को समर्पित रही तथा 5 दिसम्बर की सुबह का सत्र अमृत राय, तेरा सिंह चन्न तथा संतोष सिंह धीर की जन्मशताब्दी को समर्पित रहा। इसके अलावा पंजाब इप्टा के कलाकारों द्वारा 4 दिसम्बर को सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति की गई। कार्यसूची के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए राष्ट्रीय समिति के पदाधिकारी एवं सदस्य तथा विशेष आमंत्रित युवा साथी इकट्ठा हुए थे।

Read More

सांस्कृतिक विविधता का डर और संघर्ष

सभ्‍यताओं के टकराव या क्लैश ऑफ सिविलाइजेशन को आज के अंधराष्ट्रवाद का सहारा मिल गया है। राष्ट्रवाद के झंडे तले बहुसंख्यकों द्वारा अल्पसंख्यकों के दमन को वैध ठहराया जा रहा है।

Read More

बंगाल की मिठास के आगे हारेगी कड़वाहट की राजनीति!

सुर और स्वाद में मिठास की ज़मीन है बंगाल। चाहे वो गुरूदेव के गीत और कविताएं हों, हवा सा मुक्त बाउल गीत हो या फिर संथाली गीत-संगीत, सारे के सारे जीवन में मिठास घोलते हैं। इनके छंद-बंद में चाहे जितनी विभिन्नताएं हों पर इनके मूल में मानव प्रेम और मुक्ति की कामना है। मुक्ति- घृणा, नफरत और वैमनस्य से।

Read More

गाहे बगाहे: कहु धौं छूत कहां सों उपजी, तबहि छूत तुम मानी

जिस तरह बनारस में कबीर का मान था उसी तरह नसुड़ी का मान था। उनके जाने के बरसों बाद भी उनकी जगह भरी नहीं जा सकी है और अभी बिरहा विधा की जो गति है, उसको देखते हुए उस जगह के भरने का भी कोई आसार नहीं दीखता। नसुड़ी सदियों में एकाध पैदा होते हैं।

Read More