लॉकडाउन की मार झेल रहे गरीब मजदूरों-छात्रों के समर्थन में भूख हड़ताल

भूख हड़ताल में कुल 90 साथियों ने भागीदारी की। इसमें 44 पछास के छात्र साथी, 20 इंकलाबी मजदूर केंद्र के साथी, 18 प्रगतिशील महिला एकता केंद्र के साथी, 5 क्रांतिकारी लोक अधिकार संगठन के साथी और 3 अन्य साथी शामिल हैं।

Read More

लॉकडाउन एक ऐसा समाधान है जो अपने लिए एक समस्या की तलाश कर रहा है: बजाज

लॉकडाउन से परेशान उद्योगपतियों में बजाज एक बार फिर मोदी सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाले पहले बड़े उद्योगपति बन गये हैं।

Read More

किसानों, मजदूरों और छोटे उद्योगों के हालात पर प्रियंका गांधी का UP के मुख्यमंत्री को पत्र

उन्होंने किसानों की समस्याओं पर पत्र में लिखा है कि किसानों की गेहूं की फसल की कटाई का समय चल रहा है। किसान बुरी तरह से परेशान हैं कि कटाई कैसे होगी। प्रदेश में कम्बाइन मशीनों से कटाई की इजाजत भी दे दी है परंतु अभी तक कम्बाइन मशीनों के मालिक प्रशासन से भयभीत हैं। ज्यादातर इन मशीनों के चालक दूसरे प्रदेशों से आते हैं। उनके आने की व्यवस्था की जाए। सही सूचना के अभाव में और जुर्माने के डर से किसान रात-बिरात गेहूं काट रहे हैं।

Read More

लॉकडाउन के दौरान देश भर में गरीबों-वंचितों की मदद कर रहे लोगों और संगठनों की सूची

आजीविका ब्यूरो इसी तरह के सभी संगठनों और व्यक्तियों की अद्यतन सूची जारी कर रहा है। रोज़ाना इस तरह के संगठनों और लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। उसी हिसाब से सूची में भी रोज़ परिवर्तन किए जा रहे हैं।

Read More

सब कुछ ठप पड़ा है, फिर विश्व बैंक को ग्रोथ कहां दिख रही है?

इस बार सारा मामला मनोवैज्ञानिक है। कुछ तो जेनुइन भी है। हर आदमी को डर लग गया है कि कहीं मेरी ही मौत न हो जाए। इसके चलते एक दिमागी लॉकडाउन रहेगा लंबे समय तक। खेल, मनोरंजन, पार्टियां, सिनेमाहॉल, यात्रा, पर्यटन, सब कुछ पोस्टपोन हो जाएगा। लॉकडाउन उठ भी गया तो लोग खुद ही इस पर लगाम लगाएंगे। सबसे बड़ा सवाल शिक्षा का है कि स्कूल कॉलेज कब खुलेंगे।

Read More

UP: लॉकडाउन के बीच ‘भूख के विरुद्ध भात’ के लिए उपवास

लखनऊ, 12 अप्रैल। लॉकडाउन में गरीबों को राशन समेत जरूरी वस्तुएं निःशुल्क मुहैया कराने के लिए भाकपा (माले) के देशव्यापी आह्वान पर रविवार को प्रदेश के विभिन्न जिलों में दिन …

Read More