पंचतत्वः तुझको मिर्ची लगी तो मैं क्या करूं!

वास्को डि गामा के हिंदुस्तान की धरती पर पैर रखने के महज 30 साल के भीतर पश्चिमी तट मिर्ची उगाया जाने लगा था और बाद में इस मिर्च को गोवाई मिर्ची कहा गया।
गोवा से वह दक्षिण भारत में फैल गया।

Read More

पंचतत्व: ज्यों ‘ताड़’ माहिं ‘तेल’ है!

असली चिंता यह नहीं है कि इस कृषि वानिकी की लागत क्या होगी। असली चिंता वह लागत है जो पारिस्थितिकी के नुकसान से पैदा होगी। सुमात्रा, बोर्नियो और मलय प्रायद्वीप मिसालें हैं जहां वैश्विक पाम ऑयल का 90 फीसद उत्पादित किया जाता है। इन जगहों पर इसकी व्यावसायिक खेती के लिए बड़े पैमाने पर जंगल काटे गए और स्थानीय जल संसाधनों पर इसका भारी बोझ पड़ा क्योंकि ताड़ तेल की खेती के लिए पानी की काफी जरूरत होती है।

Read More

पंचतत्व: आप बिजली से पानी पीजिए, बिजली आपका पानी पिएगी!

सीएसई ने कुल कोयला आधारित बिजली उत्पादन क्षमता के 154 गीगावाट से अधिक का सर्वेक्षण किया है और पाया कि मीठे पानी पर आधारित लगभग 50 प्रतिशत संयंत्र अनुपालन नहीं कर रहे हैं। इनमें से ज्यादातर प्लांट सरकारी कंपनियों के हैं।

Read More

पंचतत्व: शोर मचाना बंद कीजिए, अन्य जीवों का अस्तित्व खतरे में है!

वैज्ञानिक पत्रिका साइंस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार इंसानों के कारण समुद्र में ध्वनि प्रदूषण बढ़ता जा रहा है और प्राकृतिक आवाजें गुम होती जा रही हैं, जिसका असर छोटी झींगा से लेकर व्हेल तक की जिंदगी पर पड़ रहा है।

Read More

पंचतत्व: इस धरती पर मनुष्य के अलावा दूसरे प्राणी भी हैं, उनकी आज़ादी के बारे में कब सोचेंगे हम?

अब वक्त आ गया है कि आपको तय करना होगा कि आपके घर में जलती बिजली चाहिए या सोन चिरैया! शीर्ष अदालत ने सोन चिरैया के पक्ष में खड़ा होना ठीक समझा है और राजस्थान के जैसलमेर की सौर ऊर्जा परियोजनाओं को अपने बिजली के तार जमीन के नीचे बिछाने के आदेश दिए हैं।

Read More

पंचतत्व: बाढ़ से डरिए मत, इसी बहाने नदी में कुछ तो साफ पानी बहे…

यमुना जहां अभी बह रही है, यह उसी का रास्ता है। उफान मारते पानी को देखकर हम डर इसलिए रहे हैं क्योंकि हमने अवैध रूप से उसके पेटे में अपना घर बसा लिया है।

Read More

पंचतत्व: रासायनिक उर्वरकों में फंसी तितली रानी की जान

मिट्टी और पौधों के जरिये नाइट्रोजन के तितलियों में पहुंचने का यह अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ बासेल ने किया है। यह अध्ययन स्विट्जरलैंड में किया गया है, लेकिन शोध साफ तौर पर नाइट्रोजन जमाव से तितलियों की विविधता में आने वाली कमी की तरफ इशारा करता है।

Read More

पंचतत्व: बांधो न नाव इस ठाँव बंधु…

सिर्फ नोएडा की बात करें तो यहां पर ऑक्सीजन शून्य है। एक छदाम ऑक्सीजन नहीं बचता वहां। यूपीपीसीबी के आंकड़े कहते हैं कि ‘यमुना बगैर घुली ऑक्सीजन के नोएडा में घुसती और उच्च स्तर के प्रदूषण के साथ शहर से बाहर निकल जाती है।‘

Read More

पंचतत्व: देखन में कॉटन लगे, घाव करे गंभीर!

आखिर कान साफ करने के लिए इस्तेमाल होने वाले इस छुटकी-सी डंडी और उस पर चिपकी छटांक भर रुई से समंदर कैसे गंदा होता होगा?

Read More

पंचतत्व: वन्यजीव और इंसानों का संघर्ष जैसा ‘कड़वी हवा’ में है, उसके मुकाबले ‘शेरनी’ झालमुड़ी है!

शेरनी ने एक अच्छे विषय के साथ वही कर दिया है जैसा पर्यावरण जैसे संवेदनशील मुद्दे पर हमारे अफसरान कर गुजरते हैं। मानव-जीव संघर्ष की गहराई को उकेरने के लिए हमें बेशक ‘कड़वी हवा’ जैसी फिल्म का रुख करना चाहिए, जो कई परतों में समस्या को उघाड़ती है।

Read More