अरुण पुरी, रोहित सरदाना व संबित पात्रा पर क्यों न चले राजीव त्यागी की हत्या का मुकदमा?

जब बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा राजीव त्यागी को जयचंद जयचंद कहकर अपमानित कर रहे थे तो एक बार भी सरदाना ने पात्रा को नहीं रोका.

Read More

एक महामारी का आविष्कार: इतालवी दार्शनिक जॉर्जो आगम्बेन का चर्चित ब्‍लॉग

इतालवी दार्शनिक जॉर्जो आगम्बेन कोविड के दौर में चर्चा में रहे हैं। अकादमिया में संभवत: वे पहले व्यक्ति थे, जिसने नावेल कोरोना वायरस के अनुपातहीन भय के खिलाफ आवाज़ उठाई। कोविड से संबंधित उनकी टिप्पणियों का हिंदी अनुवाद प्रमोद रंजन की शीघ्र प्रकाश्य पुस्तक “भय की महामारी” के परिशिष्ट में संकलित है।

Read More

महमूद दरवेश: कौन नहीं रो पड़ा था जिसकी मौत पर एक गैर-मुल्क में हुए कविता-पाठ में!

एक कवि के लिए इतना प्रेम, इतना जज़्बा, इतना आदर, इतना गहरा अपनापन – यह इस लेखक के लिए एक अद्वितीय दृश्य था। महमूद दरवेश का यश, उनका हुनर, उनका मर्म, तब तक विश्व-भर में प्रख्यात था, लेकिन एक गैर-राष्ट्र वाली कौम का एक राष्ट्र-कवि माने जाने वाले व्यक्ति के प्रति इतनी भावपूर्ण और कृतज्ञपूर्ण आवेग देखते ही बनता था।

Read More

स्मृतिशेष: समाजवाद के खांटी पहरुए रामअवधेश सिंह का जाना

बिहार के भोजपुर जिले के एक पिछड़े हुए गांव में 18 जून 1937 को जन्मे रामअवधेश सिंह ने राजनीति में अपने बूते जगह बनाई थी. वह 1969 में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में आरा विधानसभा क्षेत्र से चुन कर बिहार विधानसभा आये. 1977 में बिक्रमगंज लोकसभा क्षेत्र से संसद के लिए चुने गए.

Read More

…वरना इतिहास कांग्रेस को अपने पन्नों में समेट लेगा!

राहुल गांधी क्रमशः नेहरू की ओर लौटते हुए नज़र आ रहे हैंं। नेहरू जैसी ही संयम भाषा और समस्याओं पर वैज्ञानिक दृष्टि उनमें परिलक्षित अवश्य हो रही है पर जब तक प्रतिबद्ध कार्यकर्ता, प्रशिक्षित नेता और विचारवान नेतृत्व नही रहेगा, सिंधिया और पायलट जैसे लोग ही पैदा होंगे जिन्हें पार्टी में बनाये रखने में ही पूरी ऊर्जा खर्च करनी पड़ेगी।

Read More

इतनी हवा बनाने के बाद भी वे डरे रहते थे कि किसी दिन उलटी हवा न चल पड़े…

राजेन्द्र राजन जनसत्ता दैनिक से अब अवकाश प्राप्त हैं. किशन पटनायक की समाजवादी धारासे आते हैं और बनारस की पैदाइश हैं. भागमभाग और काटमकाट वाली इस दुनिया में राजेन्द्र राजन का व्यक्तित्व और कविता दोनों ही कबीराना ठहराव और दृष्टि के साथ चुपचाप उपस्थित होते हैं और जो कहना है, कह जाते हैं.

Read More

“मैंने चितरंजन दा को हमेशा अपने अकेलेपन से लड़ते हुए पाया”!

यह सच है कि चितरंजन दा ने जनांदोलनों को लोकतांत्रिकता की नई दिशा दी। यह भी सच है कि उन्होंने मानवाधिकारों को कोर्ट-कचहरी की फाइलों से उठाकर साधारण आदमी की गरिमा का सवाल बनाया। यह भी सच है कि उन्होंने उन गली कूचों मोहल्लों टोलों तक अपनी पहुंच बनाई जहां व्हाटसएप, ट्विटर और फेसबुक आज भी नहीं पहुंचा है। मैं इसमें से किसी भी बात को दोहराना नहीं चाहता। एक मनुष्य अपनी सामाजिक पहचानों से ऊपर भी बहुत कुछ होता है। शायद उन पहचानों से बहुत-बहुत ज्यादा। अपने बहुत भीतर।

Read More

“जेल में मैंने योग दिवस कैसे बिताया?” एक पत्रकार के संस्मरण

पिछले साल 2019 में आज के दिन मैं बिहार के शेरघाटी उपकारा में बतौर विचाराधीन कैदी बंद था। एक दिन पहले ही जेल में साफ-सफाई अभियान शुरु हो चुका था, जिसे देखकर मुझे अंदाजा हो गया था कि यह सब योग दिवस की ही तैयारी है।

Read More

क्या किसानों को तबाह कर के पूरी की जाएगी भारतमाला परियोजना?

बिना ठोस तैयारी के सरकारें योजना तो शुरू कर देती हैं मगर बाद में जब इसके दुष्परिणाम सामने आने लगते हैं तो फिर सरकार सख्ती पर उतरती है और किसान बगावत पर।

Read More

गांधी जी दुनिया को भारत का महानतम निर्यात हैं, अब यह अच्छा हो चाहे बुरा: अरुंधति रॉय

हम अमरीका  में चल रहे आंदोलन का समर्थन किस तरह करें और भारत में विरोध कर रहे लोगों के साथ कैसे एकजुटता ज़ाहिर करें? मेरे ख्याल से आपका आशय श्वेत …

Read More