लॉकडाउन में कोयला-चालित संयंत्रों ने जहां-तहां फेंका कचरा, साल भर में घटे 17 हादसे

‘कोल ऐश इन इंडिया- वॉल्यूम 2: ऐन एनवायरमेंटल सोशल एंड लीगल कम्पेंडियम ऑफ़ कोल ऐश मिस मैनेजमेंट इन इंडिया 2020-21’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट की मानें तो बिजली कंपनियों ने कोविड-19 के कारण लागू हुए लॉकडाउन को अपने पावर प्लांट में जमा हुई कोल फ्लाई ऐश को जहां-तहां फेंकने के मौके के तौर पर इस्तेमाल किया और यह एक बड़ी वजह बना प्रदूषण बढ़ने का।

Read More

लगातार दूसरे साल देश में कोयला आधारित बिजली उत्पादन कम हुआ: अध्ययन

इस गिरावट का सिलसिला 2018 से शुरू हुआ जब उत्पादन ने अपने ऐतिहासिक शिखर पर पहुँचने के बाद नीचे का रुख कर लिया। पिछले साल कोविड की वजह से लगे लॉकडाउन ने इस गिरावट को मज़बूत कर दिया और अब यह सुनिश्चित करने का एक अवसर है कि COVID-19 महामारी से उबरने के दौर में देश वापस कोयला बिजली के उत्पादन को बढ़ने का मौका न दे।

Read More

कोयले से होने वाला बिजली उत्पादन कैसे निगल रहा है हमारे बच्चों की ज़िन्दगी?

इस विडियो को बनाने वाली मुख्य संस्थाएं हैं सीआरईए (CREA), डॉक्टर फॉर क्लीन एयर, दिल्ली ट्री एसओएस, एक्स्टिंक्ट रेबेलियन इंडिया, हेल्दी एनर्जी इनिशिएटिव, लेट मी ब्रीथ, माइ राइट टू ब्रीथ, पेरेंट्स फॉर फ्यूचर, वारिअर मॉम्स।

Read More