देशान्तर: Tatmadaw को जेनरेशन Z की चुनौती और म्यांमार में लोकतंत्र की कठिन डगर

एक अस्थिर और अशांत म्यांमार इस क्षेत्र में शांति और लोकतांत्रिक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए चिंताजनक है और इसके लिए ज़रूरी है कि दुनिया भर के जनतांत्रिक देश और आंदोलन सविनय अवज्ञा आंदोलन का साथ दें।

Read More

म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के खिलाफ़ और लोकतंत्र के लिए जुट रहा वैश्विक समर्थन

सैन्य शक्तियां म्यांमार में एक लम्बे अरसे से वैश्विक मानवाधिकार पटल कर खरे नहीं उतरी हैं. सैन्य तख्तापलट के बाद भी सेना, मानवाधिकार उल्लंघन जारी रखे हुए है और सामाजिक कार्यकर्ताओं, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, जनजाति और अन्य समुदाय, धार्मिक समुदाय आदि की लोकतंत्र के लिए उठती आवाजें दबा रही है.

Read More

म्यांमार में तख्तापलट: एक साल के लिए आपातकाल, आंग सान सू की और राष्ट्रपति नज़रबंद

1 फरवरी को जबकि नई संसद को समवेत होना था, सुबह-सुबह फौज ने तख्ता-पलट कर दिया। कई मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों और मुखर नेताओं को भी उसने पकड़कर अंदर कर दिया है। यह आपातकाल उसने अभी अगले एक साल के लिए घोषित किया है।

Read More

आर्टिकल 19: अंधभक्तों के ज़ोर पर राष्ट्र को महान बनाने की ऐतिहासिक शर्मिंदगी

किसी नेता के पीछे चलती हुई भीड़ से सबसे पहली उसकी चेतना छीन ली जाती है। उसकी समझदारी छीन ली जाती है। उसकी आत्मा से इंसानियत के एहसास को मारकर उसके हाथ में थमा दिए जाते हैं पत्थर, लाठियां, गंड़ासे, गोलियां और बंदूकें।

Read More

हिंसक कब्ज़ा बनाम कानूनी मंजूरी: लोकतंत्र में संसद पर एकाधिकार के दो चेहरे

संवैधानिक लोकतंत्र से छेड़छाड़ और उसमें बदलाव के दोनों तरीकों- भारतीय और अमेरिकी- में क्‍या कोई फ़र्क है? या दोनों एक ही सिक्‍के के दो अलग-अलग पहलू भर हैं?

Read More

कब्ज़े में लोकतंत्र: ट्रम्प के आह्वान पर हजारों की भीड़ घुसी संसद में, ऐतिहासिक दृश्य

कैपिटल हिल में जो बिडेन को मिले वोटों के प्रमाणन की प्रक्रिया सदन की संयुक्‍त बैठक में कुछ घंटे पहले शुरू हुई थी और उस वक्‍त ब्रेक चल रहा था, जब रंग-बिरंगी वेशभूषा में झंडे लहराते हजारों समर्थकों ने कैपिटल हिल पर हमला बोल दिया।

Read More

वेनेज़ुएला का असफल तख्तापलट और चावेज़ का अधूरा सपना

अमेरिका बहुत दिनों से वेनेज़ुएला में तख्तापलट के प्रयास में लगा है, खासकर जबसे राष्ट्रपति चावेज़ चल बसे और सत्ता का भार निकोलस मादुरो पर आया।

Read More