इस्लामोफोबिया और हिन्दूफोबिया: शेखचिल्ली के सपनों से निकले दो डर

आज के दौर में न तो गजवा-ए-हिंद और न ही अखण्ड भारत मुमकिन है। जो लोग इस तरह के ख्वाब में डूबे रहना चाहते हैं उनको डूबे रहने दो, लेकिन बाक़ी जो विवेकशील लोग हैं और जो हर बात को तर्क की कसौटी पर कसते हैं उनके लिए ऐसी नामुमकिन बातों पर सोचना अपना समय बर्बाद करना है।

Read More

लोकतंत्र में चीते की वापसी का राजसी उत्सव

मीडिया और सरकारी प्रचार तंत्र के बड़े-बड़े दावों से एकदम अलग प्रोजेक्ट चीता की कामयाबी के लिए निर्धारित मापदंड यह दर्शाते हैं कि सरकार स्वयं बहुत ज्यादा आशान्वित नहीं है। प्रोजेक्ट को सफल मानने के लिए निर्धारित लक्ष्यों में लाये गये चीतों में से 50 प्रतिशत का जीवित रहना, इन चीतों द्वारा कुनो-पालपुर को अपना घरेलू क्षेत्र बनाया जाना, इन चीतों का वन में प्रजनन करना, उत्पन्न शावकों का एक वर्ष से अधिक अवधि तक जीवित रहना तथा एफ1 पीढ़ी का कामयाबी से प्रजनन करना आदि सम्मिलित हैं।

Read More

समरकंद में प्रधानमंत्री का सम्बोधन दार्शनिक है या महत्त्वाकांक्षी?

समरकंद सम्मेलन के दौरान भारत-चीन और भारत-पाकिस्तान के राष्ट्र प्रमुखों के बीच द्विपक्षीय संवाद की आशा बहुत से प्रेक्षकों ने लगाई थी, किंतु स्वयं प्रधानमंत्री इनके प्रति अनिच्छुक नजर आए। चीन से सीमा विवाद और कश्मीर के मसले पर मोदी को वही भाषा बोलनी पड़ती है जो पुतिन यूक्रेन के विषय में बोल रहे हैं।

Read More

बेंगलुरू की बाढ़: प्रकृति की छाती पर शहरीकरण के नाच का नतीजा

गर्म वातावरण में शहरी बाढ़ हमारे शहरों और कस्बों के लिए एक बड़ा खतरा है। जलवायु परिवर्तनशीलता के साथ क्षेत्रीय पारिस्थितिक चुनौतियों ने बाढ़ के जोखिम को बढ़ा दिया है। शहरी बाढ़, जो मुख्य रूप से अब तक नगरपालिका और पर्यावरण शासन की चिंता थी, अब ‘आपदा’ की शक्ल ले चुकी है ।

Read More

हिंदी का पुराना संस्कार और नये मनुष्य का संकट

जीवन की विराटता में तकनीकी के रथ पर सवार तूफानी गति से भागता नया मनुष्य भी है जो हमारी – “सुनो तो! रुको!! ठहरो!!!” – की पुकार को सुनने को तैयार नहीं है। हिंदी के स्वरूप को, उसकी अभिव्यक्तियों को, उसके शब्द भंडार और प्रकृति को निर्धारित करने वाली शक्तियां हमारी सदिच्छा से कहीं अलग बाजार और तकनीकी के द्वारा निर्धारित हो रही हैं।

Read More

भारत जोड़ो यात्रा: बौद्धिकों के समझने के लिए तीन जरूरी पहलू

धर्मनिरपेक्ष ताकतों ने साम्प्रदायिकता, जातिवाद आदि के विरुद्ध राष्ट्र्वादी परिप्रेक्ष्य से संघर्ष नहीं किया। भारत जोड़ो यात्रा वह जरूरी व ऐतिहासिक कार्य कर रही है।

Read More

बदलाव की बाट जोहता गाबो का देश और हालिया राष्ट्रपति चुनावों के कुछ संदेश

उम्मीद तो यही है कि शकीरा और गाब्रिएल गार्सिया मार्केस की चमकीली, आकर्षक और सम्मोहक दुनिया रहा यह देश, जो हाल-फिलहाल सिर्फ नार्कोस के खूंखार पात्रों के नामों से जाना गया, अपने लाखों नाउम्मीद लोगों के लिए बदलाव के नये रास्ते तलाशेगा।

Read More

देशभक्ति का शासनादेश और एम्मा गोल्डमैन से निकलते कुछ सबक

जैसे पावस ऋतु में दादुर बोल रहे हैं और कोयल चुप्पी मारे किसी पेड़ पर इनके शोर से अपनी मिठास को बचाते हुए लुकी-छुपी बैठी हो। हमें दादुरों का शोर सुनने की आदत हो चुकी है। हम अब दादुरों के कोलाहल में संगीत की स्वर लहरियां खोज चुके हैं। हम राग-रागि‍नियों में मस्त हैं। इनकी धुन पर नाचते-झूमते हम एक-दूसरे को देशभक्ति का सर्टिफिकेट बाँट रहे हैं।

Read More

बिहार: कुर्सी बचाने की एक सामान्य घटना और दर्शकों की असामान्य उत्तेजना

नीतीश की राजनीतिक यात्रा को देखते हुए कोई सामान्य व्यक्ति भी यह बड़ी आसानी से कह सकता है कि वे व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा को सर्वोपरि रखने वाले राजनेता हैं और इसकी पूर्ति के लिए वे बड़ी आसानी से विचारधारा और नैतिकता के साथ समझौते कर सकते हैं।

Read More

शामली चीनी मिल को कब्जे में ले सरकार वरना किसान उसे शहीदों को करेंगे समर्पित: PM को पत्र

इस क्षेत्र के पीड़ित किसान एवं अन्य तमाम जनता का माननीय प्रधानमंत्री जी से सादर अनुरोध है कि सरकार तुरंत इस चीनी मिल को अपने कब्जे में लेकर खुद संचालन करे और आजादी के दौरान इनके द्वारा जबरन फांसी पर चढ़ाए गए शहीद भगत सिंह, सुखदेव सिंह और राजगुरु के नाम से मिल प्रांगण में स्मारक स्थल बनाये।

Read More