“प्रगतिशील लेखन एक आंदोलन है” : प्रलेस, इंदौर का जिला सम्मेलन

सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे इंदौर इकाई के अध्यक्ष चुन्नीलाल वाधवानी ने अपने संबोधन में कहा कि तलवार के जोर पर कब्जा तो किया जा सकता है लेकिन क्रांतिकारी बदलाव नहीं। यह कार्य साहित्यकार कर सकता है। गांधी, भगत सिंह, अंबेडकर के बगैर भारत की कल्पना नहीं की जा सकती।

Read More

भूमि अधिकार आंदोलन के राष्ट्रीय सम्मेलन में संविधान को बचाने का आह्वान

भूमि अधिकार आन्दोलन 2015 में अपने गठन के साथ ही स्थानीय समुदायों– आदिवासी, दलित, मछुआरों और शहरी ग़रीबों के पास मौजूद संसाधनों की राज्य प्रायोजित लूट की मुखालफत करता रहा है और इस लूट के खिलाफ़ संगठित प्रतिरोधों के साथ खड़ा हुआ है।

Read More

समाज के सवालों का हल आंदोलन तय करेंगे: मुहम्मद शुऐब

सामाजिक कार्यकर्ता रवि शेखर ने कहा कि आज पूरी दुनिया पर्यावरण संकट से जूझ रही है जिसका सीधा असर आम जनता पर पड़ रहा है। किसानी के संकट ने देश की किसानों-नौजवानों के सामने जीवन का संकट खड़ा कर दिया है।

Read More

साम्राज्यवाद के विरुद्ध अडिग चट्टान थे फिदेल कास्त्रो: 96वें जन्मदिन पर विशेष आयोजन

इन फिल्मों को हिंदी में डब करके हिंदी के दर्शकों को दिखाना भी बहुत ज़रूरी है ताकि नयी पीढ़ी के लोग हाड़-माँस के बने फिदेल कास्त्रो, चे गुएवारा, सल्वादोर अलेंदे, शेख मुजीबुर्रहमान आदि जैसे अजूबे करिश्माई व्यक्तित्वों को जान सकें और उनसे ये सीख सकें कि लोग ऐसे करिश्माई पैदा नहीं होते बल्कि असाधारण हालात साधारण लोगों को भी करिश्माई बना देते हैं।

Read More

फ़्रंट पैक पर चेतावनी लेबल के लिए तैयार है भारतीय खाद्य उद्योग

भारतीय खाद्य उद्योग, जो इस पूरी प्रक्रिया में मुख्य साझेदार हैं, एक ऐसे लेबल को अपनाने के लिए तैयार है जो देश के लिए सबसे अच्छा है और उपभोक्ता अनुकूल लेबल है। इससे भारतीय परिवारों को स्वस्थ विकल्प चुनने में मदद मिलेगी और साथ ही हमारे उद्योग भी ज़्यादा नौकरी सृजित कर सकेंगे।

Read More

इंदौर: हिरोशिमा-नागासाकी पर बमबारी की वर्षगांठ पर लाइब्रेरी का उद्घाटन, ‘ब्लैक रेन’ की स्क्रीनिंग

सिर्फ एक वैज्ञानिक चेतना और श्रम से पूर्ण ज़िंदगी ही दुनिया को बेहतर बना सकती है और साथ ही अच्छी जिंदगी का रास्ता अच्छी किताबें, अच्छा सिनेमा और अच्छी कला से हो कर ही गुज़रता है। जन शिक्षा से ही आने वाले वक्त में इस तरह का नरसंहार या अपराध रोकना सम्भव होगा।

Read More

संवैधानिक मूल्यों पर आधारित समाज व साझी विरासत को बचाना वक्त की जरूरत: शमा परवीन

शमा परवीन ने कहा कि आज देश में सामाजिक और लोकतांत्रिक मूल्यों का क्षरण हो रहा है। स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के सपनों के अनुरूप समाज निर्माण नहीं हो रहा है। ऐसे में संवैधानिक मूल्यों पर आधारित समाज व साझी विरासत को बचाना वक्त की भारी जरूरत है।

Read More

अंबेडकरनगर: कैद में रामसागर की मौत का मामला पहुंचा NHRC, पत्नी ने लगाया था मारपीट का आरोप

इस मामले में मानवाधिकार जन निगरानी समिति के डॉ. लेनिन रघुवंशी ने मानवाधिकार आयोग में एक शिकायत दर्ज करवायी है जिसे आयोग ने संज्ञान में ले लिया है।

Read More

नर्मदा नव निर्माण अभियान पर फर्जी मुकदमे के खिलाफ जनसंघर्ष समन्वय समिति का वक्तव्य

ऐसा ही आरोप मेधा पाटेकर के ऊपर पहले भी लगाया जा चुका है। 2007 में सुप्रीम कोर्ट ने उनके ऊपर लगाए गए सभी आरोपों को फर्जी पाया और उसे निरस्त कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने शिकायतकर्ता के ऊपर फर्जी मुकदमा दायर करने के अपराध में जुर्माना भी लगाया था।

Read More

वन जमीन डायवर्जन नियम में संशोधन: कारपोरेट के सामने नतमस्तक सरकार

निजी पूंजी को सहूलियत देने के लिए कानूनों-नियमों में परिवर्तन कर लोकतांत्रिक कानूनों-नियमों को न्यून या खारिज़ कर देना ही मोदी सरकार का “मिनिमम गवर्नमेंट मैक्सिमम गवर्नेंस” की नीति है।

Read More