वार्ताकार किसानों ने लंच में सरकारी खाने से किया इनकार, देश भर में कॉर्पोरेट-विरोधी हुंकार

केन्द्रीय गृहमंत्री और पंजाब के मुख्यमंत्री की मुलाकात हुई. मुलाकात के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- मैंने गृह मंत्री को पंजाब में अपनी स्थिति दोहराई है और कहा है कि ज़ल्दी इसका कोई हल निकलना चाहिए और पंजाब के किसानों को भी अपील करता हूं कि हम ज़ल्दी इसका हल निकालें क्योंकि इसका पंजाब की अर्थव्यवस्था और राष्ट्रीय सुरक्षा पर असर हो रहा है.

Read More

किसानों का 26/11: एक मौत, भीगी रात और अब दिल्ली के स्टेडियमों को जेल बनाने की तैयारी

रास्‍ते में एक किसान की मौत की ख़बर है। मानसा जिले के धाना सिंह हरियाणा के भिवाड़ी में एक सड़क हादसे में गुज़र गये। वे दिल्‍ली चलो काफि़ले का हिस्‍सा थे। समिति ने उन्‍हें श्रद्धांजलि दी है।

Read More

लेफ्ट, राइट, लेफ्ट: केरल के पुलिस ऐक्ट में धारा 118A आयी और गयी, अब सदन में चर्चा होगी

मुख्यमंत्री विजयन ने इस अध्यादेश का बचाव करते हुए कहा था, “किसी को भी अपनी मुट्ठी को उठाने की आजादी है लेकिन ये वहीं खत्म हो जाती है जैसे ही दूसरे की नाक शुरू हो जाती है।” इसके बाद ही सरकार चौतरफा आलोचना में घिर गयी थी।

Read More

TATA Litfest: रद्द सेशन पर चॉम्‍स्‍की-प्रशाद ने कहा- चर्चा तो होगी, लेकिन वक्त और जगह हमारी होगी!

इस परिचर्चा में नोम की किताब के बहाने कई मुद्दों पर बात होनी थी, किंतु ऐन वक्त पर बिना किसी तार्किक कारण बताये चर्चा टाटा की ओर से रद्द कर दी गयी!

Read More

स्मृतिशेष सौमित्र चटर्जी: वैचारिक भिन्नताओं से परे एक अभिनेता जिसके जाने का दुख सबको है

सौमित्र चटर्जी आखिरी सांस तक एक कम्‍युनिस्ट रहे, हालांकि आधिकारिक रूप से वे किसी पार्टी के कार्ड होल्डर अथवा सदस्य नहीं थे, किंतु वे अक्सर सीपीआइ के मुखपत्र ‘गणशक्ति’ में लिखा करते थे.

Read More

बाल दिवस पर बच्चों के ‘चाचा’ की एक याद

नेहरू जी ने अपने पत्र में बेटी इंदु को एक पत्थर के छोटे टुकड़े की कहानी लिखी थी. कैसे एक बड़ा चट्टान अपनी यात्रा में घिसते हुए नदी में बहते हुए छोटा रूप पाया था. दरअसल, छोटा होने पर ही कोई चट्टान हथेली पर आ सकता है.

Read More

ऑनलाइन मीडिया मंचों के गले तक पहुंचा सरकारी निगरानी का फंदा, OTT भी जद में

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से टीवी, मीडिया के प्रसारण पर नियंत्रण और कन्टेन्ट पर निगरानी के सम्बन्ध में जवाब मांगा था, जिसके जवाब में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में जवाब दिया था कि ऑनलाइन माध्यमों का रेगुलेशन टीवी से ज्यादा जरूरी है.

Read More

स्मृतिशेष: कवि का कमरा, कवि की दुनिया

तमाम शोरगुल, आत्म-प्रशंसा और प्रचार से दूर रह कर विष्णुजी आजीवन चुपचाप अपने लेखन और सृजन कर्म में लगे रहे। जैसे मुक्तिबोध के जीवनकाल में उनका मूल्यांकन नहीं किया मठाधीशों ने और उनके जाने के बाद उन्हें खूब खोज कर पढ़ा गया, उसी तरह।

Read More

CPI(M) की चुनावी रणनीति में कांग्रेस को लेकर दुविधा बरकरार, केरल में कोई समझौता नहीं

येचुरी ने कहा, ‘केरल में हम एलडीएफ का हिस्सा रहते हुए चुनाव लड़ना जारी रखेंगे. माकपा तमिलनाडु में द्रमुक के नेतृत्व वाले गठबंधन का हिस्सा होगी. असम में हम कांग्रेस समेत सभी धर्मनिरपेक्ष दलों के साथ सहयोग करते हुए चुनाव लड़ेंगे.’

Read More

एक हम्माम में तब्दील हुई है दुनिया, सब ही नंगे हैं किसे देख के शरमाऊँ मैं!

बड़े नेता दिल्ली स्तर पर पार्टी बदलते हैं, उनसे छोटे नेता राज्य स्तर पर और सबसे निचले स्तर के जिला स्तर पर दल बदल करते हैं. मीडिया का सारा ध्यान केवल राष्ट्रीय स्तर पर रहता है. उधर जमीन पर बदलाव पर ध्यान ही नहीं जाता किसी का.

Read More