आम की डाल पर बैठकर बोलने वाली घुघुती और मजदूर दिवस

रोजगार की तलाश में शहरों की ओर गये मजदूर महामारी के डर से, लॉकडाउन से, शहरों की कठिनाइयों से वापस अपने घरों की ओर लौटने को मजबूर हो रहे हैं। यह दुख ऐसा है कि शायद हमारे लोकगीतों में भी न समा पाये।

Read More

वापस लौटने के लिए गांव ही न बचे तो?

गांव का शोषण, बदहाली और उपेक्षा यूं ही बदस्तूर जारी रहा तो क्या वह दिन दूर है जब हम दिल्ली, मुंबई के प्रवासी बन कर जीवन बिताने को मजबूर लोग वापस गांव की ओर लौटना चाहें और कहीं कोई गांव ही ना बचा हो तो?

Read More

डर लगता है कि मेरा वैचारिक बदलाव आपको पसंद नहीं आएगा: शिक्षक के नाम एक विद्यार्थी का पत्र

मेरी भी इच्छा थी कि यदि मैं लिख दूंगा तो यह बातें आप तक भी पहुंच जायेंगी। सर, मेरी इच्छा रहती है कि मैं आपको अपना लिखा हुआ पढ़कर सुनाऊं और आप कहें कि ”तुम्हारी चिट्ठी सुनने का सुख मिला।”

Read More

सुनील दत्त और नरगिस का प्रेम यदि आज के यूपी में होता तो…

किश्वर देसाई द्वारा लिखी गई किताब ‘द ट्रू लव स्टोरी ऑफ नरगिस’ के मुताबिक राज कपूर से अलग होने के बाद वो आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगी थीं। आज वैलेंटाइन डे के दिन राज कपूर और नरगिस की प्रेम कहानी के बारे में जानना मौजू होगा।

Read More

इस सिन्‍ड्रेला को अपनी रिहाई के लिए किसी शहज़ादे का इंतजार नहीं है!

ज्यादातर हिन्दी फिल्मों में हम यही देखते रहे हैं कि प्यार हुआ, प्यार की राह में तमाम रुकावटें आयीं, फिर उनको पार करके शादी हुई या प्रेमी जोड़े मिल गये। यह फिल्म इस मायने में अलग है कि यह सवाल करती है क्‍या प्‍यार ही पर्याप्‍त है। यह एक लम्बी छलांग है हिन्दी फिल्मों की इस परम्परा में, जो प्रेमी जोडे के बीच समानता और प्रतिष्‍ठा का नया आयाम खोलती है।

Read More

अख़बारनामा: वैश्वीकरण के दौर में भारतीय पत्रकारिता का एक जायज़ा

आज जो साम्प्रदायिकता का ज़हर हमारे समाज की जड़ों में गहरे तक उतरता जा रहा है तो यह केवल आज घटित हो गई कोई परिघटना नहीं है। इसकी भूमिका तभी से बननी शुरू हो गई थी जब उदारीकरण की नीतियों के माध्यम से हमारा देश अमेरिकी साम्राज्यवाद के जाल में फंसने लगा था। इस बारे में आलोक श्रीवास्तव जी की यह पुस्तक आंखें खोलने वाली है।

Read More