सच कहना ही प्रतिरोध है, प्रेम करना है नफरत का विरोध: IPTA की सांस्कृतिक यात्रा का समापन

इप्टा द्वारा पाँच राज्यों में 44 दिनों तक निकाली गई “ढाई आखर प्रेम के” सांस्कृतिक यात्रा का समापन इंदौर में गीत, संगीत और नाटकों के प्रदर्शन के साथ समारोहपूर्वक संपन्न हुआ। सार्वजनिक स्थलों पर जनगीत गाए गये। नुक्कड़ नाटकों की प्रस्तुति हुई। इप्टा के कलाकारों ने यात्रा निकालने के कारणों और यात्रा में मिले अनुभवों को साझा किया।

Read More

शहीद कॉमरेड गोविन्द पानसरे की याद में प्रलेस का आयोजन

कॉमरेड गोविंद पानसरे की स्मृति में प्रगतिशील लेखक संघ की इंदौर इकाई द्वारा आयोजित बैठक में विनीत ने कहा कि यह विडंबना ही है कि कॉमरेड पानसरे को देश में उनकी मृत्यु के बाद ही पहचाना जा सका जबकि महाराष्ट्र में तो उनके जनसंघर्षों और लेखन की वजह से उन्हें सभी जानते हैं।

Read More

अमेरिकी साम्राज्यवाद की साज़िश को उजागर करें अपनी आज़ाद नज़र से: सईद नक़वी

विख्यात पत्रकार सईद नक़वी ने जोशी-अधिकारी इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल स्टडीज दिल्ली द्वारा “अफ़ग़ानिस्तान- कल, आज और कल” विषय पर व्याख्यान देते हुए कहा कि अफ़ग़ानिस्तान के बारे में हमें वही समाचार दिखाये जा रहे हैं जो साम्राज्यवाद के स्वामित्व वाली विदेशी समाचार एजेंसियां दिखाना चाहती हैं।

Read More

अकेले वामपंथ ही क्यों है भगत सिंह की विरासत का असली दावेदार?

भगत सिंह को सब अपनाना चाहते हैं लेकिन भगत सिंह की वैचारिक विरासत का संवाहक एवं दावेदार वामपंथ है। भगत सिंह मसीहा नहीं थे और ना ही मसीहाई में विश्वास रखते थे। भगत सिंह में वर्गीय समझ थी जो तर्कपूर्ण अध्ययन से मिलती है।

Read More

कॉमरेड ए.बी. बर्द्धन की याद में भारत के मज़दूर आंदोलन पर एक व्‍यापक नज़र

कॉमरेड ए. बी. बर्धन के 95वें जन्मदिवस तथा श्रम संगठन ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन काँग्रेस (एटक) की स्थापना के शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य में जोशी-अधिकारी इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल स्टडीज द्वारा 25 और 26 सितम्बर को आयोजित ज़ूम मीटिंग का विषय था “भारत के मजदूर आंदोलन की विरासत और आज के संघर्ष”।

Read More