दक्षिणावर्त: राम मंदिर बनने से कुछ नहीं बनने वाला, फिर भी बनने दीजिए!

अगर राम-मंदिर बन ही रहा है, तो भी समस्याएं रहेंगी, उनके साथ हमें जीना होगा, उनके निबटारे का प्रयास करना होगा, लेकिन देश में बहुसंख्यक आबादी के पुराने ज़ख्‍म पर मुकम्‍मल मरहम लगेगा और घाव दोबारा नहीं बहेगा।

Read More

दक्षिणावर्त: न तो PM का अयोध्या दौरा सांप्रदायिक है, न ही सनातन के प्रतीकों पर हमला सेकुलरिज़्म

यहूदियों की भावना को आहत न करने के पीछे स्वास्तिक को नीचा दिखाने, उसे एक खूंरेज़ विचार के साथ दिखाने के पीछे की मंशा आखिर क्या है? अमेरिका में यहूदी लॉबी चूंकि बहुत ताकतवर है, इसलिए तो कहीं ऐसा नहीं हो रहा है?

Read More

दक्षिणावर्त: प्रवासी नेपाली का सिर मूंडने वाले चिंदीचोर और तोगड़ि‍या का सबक

हिंदुओं के किसी भी धर्मग्रंथ में किसी भी व्यक्ति को जबरन धर्मांतरित करने, हिंसा करने या भगवान के नाम पर लूटमार करने की कोई भी बात नहीं लिखी गयी है। यह भीड़ जो हिंसा करती है, इस वक्त के ब्लॉगजीवी/क्षणजीवी समय में सुर्खियों में आने की, उसकी कवायद भले पूरी हो जाती है, लेकिन वह हिंदुओं का कितना बड़ा नुकसान कर जाते हैं, यह उनको पता ही नहीं है।

Read More

दक्षिणावर्त: फ्रैक्चर आधुनिकता के ट्विटर विमर्श

आखिर ट्विटर पर हो रहा जन-जागरण किसे संबोधित था? अंधविश्वासों में जकड़ी हिन्दू औरतें ट्विटर पर मिलती हैं क्या? अव्वल तो ये विरोध, ये हैश टैग क्रांति, ‘मिसप्‍लेस्‍ड’ थी, लेकिन यहां मेरा विषय यह है ही नहीं।

Read More

दक्षिणावर्त: जेपी के चेलों से पुष्पम प्रिया चौधरी तक बिहार की यंग और डार्क कॉमेडी

एक बूढ़ा निजाम को हिलाता है और उसके फल से तीन ज़हरीले फल पैदा कर जाता है। आज जब बिहार अपने सवाल तलाश रहा है, तो उसके पास एक भ्रष्टाचारी बाप के पूत, एक एनजीओवादी महिला और एक देशद्रोह के आरोपित के अलावा कोई युवा विकल्प तक नहीं है।

Read More

दक्षिणावर्त: उत्साह के टूटने और शीराजे के बिखरने का यह काल

नये बिहार में आपका स्वागत है। बिहार ने कोरोना पर विजय पा ली है। हरेक पंचायत में प्रवासियों की रेलमपेल, धान की बुआई और हुल्लड़ के बीच बिहार के युवा गया से लेकर दरभंगा तक हवाई उड़ान भर रहे हैं- शिक्षक बनने के लिए।

Read More

सुशांत सिंह राजपूत: डुबोया मुझ को होने ने…?

एक अच्छा-भला सफल सितारा! बहुत कम संघर्ष में जिसने सेलिब्रिटी का स्टेटस पा लिया था, जिसके जीवन से संघर्ष का दौर खत्म हो चुका था। सुशांत सिंह ‘राजपूत’! अपने घर …

Read More

दक्षिणावर्त: हमारे यहां अमेरिका या ब्रिटेन से भी बड़े बलवे घात लगाए बैठे हैं…

हमारे प्रधानसेवक ने कहा, ‘आपदा में अवसर है’। मैंने सुना, ‘आपदा ही अवसर है’। अमेरिकी लोगों ने सुना, ‘आपदा का अवसर है’। फिर, यहां से वहां तक सब जुट गए …

Read More