“जेल में मैंने योग दिवस कैसे बिताया?” एक पत्रकार के संस्मरण

पिछले साल 2019 में आज के दिन मैं बिहार के शेरघाटी उपकारा में बतौर विचाराधीन कैदी बंद था। एक दिन पहले ही जेल में साफ-सफाई अभियान शुरु हो चुका था, जिसे देखकर मुझे अंदाजा हो गया था कि यह सब योग दिवस की ही तैयारी है।

Read More

बिहार: क्वारंटीन सेंटर में अनियमितता के खिलाफ आवाज़ उठाने पर मजदूरों की पिटाई

बिहार का पुलिस-प्रशासन क्वारंटीन केन्द्रों में व्याप्त अनियमितता की सच्चाई को छिपाने की कितनी भी कोशिश क्यों ना करे, लेकिन इन अनियमितताओं का विरोध करने पर मजदूर के टूटे हाथ और शरीर पर लाठियों के निशान की तस्वीर सच बयां कर ही देती है।

Read More

झारखंडः प्रशासन की मंजूरी से राहत कार्य में लगे पंजीकृत मजदूर यूनियन को पुलिस की धमकी, CM से की शिकायत

मैकलुस्कीगंज थाना के अधिकारियों द्वारा दी गयी धमकी की जानकारी ईमेल के जरिये झारखंड के मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, डीजीपी, रांची डीआइजी, रांची एसएसपी और रांची डीसी को दी गयी है।

Read More

भागलपुर के कोरोना मरीज़ को गोड्डा का बताने वाले दैनिक जागरण पर मुकदमा करेगी झारखंड पुलिस?

दैनिक जागरण के गोड्डा (झारखंड) संस्करण के मुख्यपृष्ठ पर 23 अप्रैल को छपी खबर ‘गोड्डा में मिला कोरोना का पहला मरीज’ अंततः फेक निकला। गोड्डा जिला जनसंपर्क कार्यालय द्वारा प्रेस विज्ञप्ति जारी कर व गोड्डा उपायुक्त (डीसी) द्वारा ट्वीट कर दैनिक जागरण में छपी खबर को निराधार व भ्रामक बताया गया।

Read More

लॉकडाउन में भुखमरी की जीवंत गवाह हैं दुमका में अनाज से भरे सरकारी ट्रकों को लूटती औरतें

यहां की महिलाएं 21 अप्रैल को दुमका-रामपुरहाट मुख्य सड़क के किनारे जमा हो गईं और वहां से गुजर रहे अनाज से भरे ट्रकाें को लूटने का प्रयास किया।

Read More

झारखण्ड: गांव सेनेटाइज़ कर रहे दो मजदूरों की पीठ केमिकल से झुलसी

इससे पहले भी मार्च के अंत में हजारीबाग नगर निगम के दो-तीन कर्मचारी सेनेटाइज़ेशन के दौरान झुलस गये थे, जिसके बाद नगर निगम के कर्मचारियों ने काफी हंगामा भी किया था। बाद में इन कर्मचारियों को उपमेयर ने रेनकोट दिया था।

Read More

झारखण्ड में एक लाश को दो गज़ ज़मीन चाहिए!

घटना दिखाती है कि जिंदा ही नहीं बल्कि मरे हुए इंसान को भी समाज से अलग-थलग करने की पूरी तैयारी की जा चुकी है। शोषण व लूट पर टिकी इस व्यवस्था  के पोषणकर्ता यह कभी भी नहीं चाहेंगे कि लोग सामूहिकता में किसी भी विषम परिस्थितियों  से टक्कर ले।

Read More