एक ‘ठहरी हुई विचारधारा’ से संवाद की इतनी उतावली क्‍यों राकेश जी?

हेडगेवार के जीवनीकार प्रो. राकेश सिन्‍हा के लेख का जवाब कवि-पत्रकार रंजीत वर्मा ने भेजा है। उन्‍होंने अपने जवाब में आवाजाही को लेकर फैले आग्रहों के पीछे की राजनीतिक साजि़श को पकड़ा …

Read More

साफ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं…

प्रो. राकेश सिन्‍हा ने अपने ब्‍लॉग और फेसबुक पर आवाजाही के संदर्भ में वामपंथियों के खिलाफ जो लेख लिखा था जिसे हमने बाद में जनपथ पर साभार लगाया, उसका जवाब चंचल …

Read More

अब ज़रा संघ के आइने में देखिए वामपंथी संकीर्णता का अक्‍स!

(पिछले डेढ़ महीने से आवाजाही पर जो बहस चल रही थी, उसमें वाम दायरे के बाहर से पहला संगठित और सक्रिय हस्‍तक्षेप आया है। मंगलेश डबराल जिस संस्‍थान के मंच …

Read More

सम्पादक को मदारी होना चाहिए, बन्दर नहीं

अवनीश मिश्र मुझे तो अव्वल ये आज तक पता ही नहीं चला कि जनसत्ता छपता क्यों है? और ऐसे क्यों छपता है जैसे मरे हुए का पिंडदान करना है? और …

Read More

यह हिंदी की छिछली दुनिया है, छोड़ो, कुछ बेहतर करें: ओम थानवी

28 मई, दोपहर 2 बजकर 41 मिनट पर ओम थानवी का प्राप्‍त पत्र बंधुवर, लिंक भेजने के लिए धन्यवाद. मैंने केवल कटघरे का ज़िक्र इसलिए किया क्योंकि कटघरे की बात …

Read More

मुझे नए कठघरों से परहेज़ नहीं: ओम थानवी

27 मई के जनसत्‍ता में छपे ‘अनन्‍तर’ की प्रतिक्रिया में मेरी लिखी टिप्‍पणी पर आज सुबह अखबार के संपादक ओम थानवी ने दो पत्र भेजे। दरअसल हुआ ये कि रात में …

Read More

अनंतर का लोकतंतर ऐसा ही होता है

अभिषेक श्रीवास्‍तव जनसत्‍ता में 20 अप्रैल को संपादक ओम थानवी ने अपने स्‍तम्‍भ ‘अनन्‍तर’ में जब ‘आवाजाही के हक में’ आधा पन्‍ना रंगा था, उसी दिन इस लपकी गई बहस …

Read More

सावधान! यह आदमी बेहद खतरनाक और छलिया है: रंजीत वर्मा

शिवमंगल सिद्धांतकर ‘बाबा’ के जवाब पर कवि और ‘बाबा’ की पत्रिका के संपादक रहे रंजीत वर्मा ने अपनी टिप्‍पणी भेजी है। यह टिप्‍पणी परत दर परत ‘बाबा’ के जवाब का …

Read More

मार्क्‍सवाद के अनुकूल है मंगलेश और उदय प्रकाश का आचरण: शिवमंगल सिद्धांतकर

”बाबा की मेज़ पर मोदी की शील्‍ड” नामक रिपोर्ट  पर बाबा शिवमंगल सिद्धांतकर का जवाब आया है। जवाब क्‍यों आया यह समझ नहीं पाया मैं, क्‍योंकि उक्‍त रिपोर्ट बाबा से …

Read More